two line status

Leave a Comment

मेरी ‪उंगलिया‬कभी दुखती नहीं, जब में ‪‎message‬ करता हु ‪तेरे लिए‬
लेकिन मेरा ‪‎दिल‬ तब दुखता है
जब तेरा ‪Reply‬ नहीं आता
‪मेरे लिए‬

सारे ‪दुखो‬ को भुला कर
‪‎मुस्कुराया‬ तेरे लिए…
अब तू बता
कभी तू ‪‎रोई‬ मेरे लिए

आजतक Flirting तो बहतो के साथ की लेकीन जिसको देखकर करेले की सब्जी भी मीठी लगे वो मेरी सपनो _की_शहजादी 2015 मै तो मिल जा

इतना मत गुरूर कर अपनी खुबसुरती पर ,शेहर मै तुझे तेरी खूबसुरती से कम, मेरे नाम से जादा जाना जाता है………..

मोहब्बत और मौत की पसंद की दाद देते हैं हम,
एक को दिल चाहिए तो एक को धड़कन..!!

अजब तेरी दुनिया गज़ब तेरा खेल मोमबत्ती जलाकर मुर्दों को याद करना और मोमबत्ती बुझाकर जन्मदिन मनाना

लाख‬ diye jalale ‪आपनी‬ gali m
Magar ‪‎रोशनी‬ तो hamare आनै se hi hogi

ये तेरे बाप का खरीदा हुआ खिलोना नहीँ जिसे तू
केसे भी तोड दे ये मेरा दिल हे इसे बेचने
का मेरा इरादा नहीँ ओर खरीदने
की तेरी ओकात नहीं ।।

नफरत हमे उन से नही है..
जो हमारे न हुए..
नफरत तो हमे उन से है..
जो हमे अपना कहते थे फिर भी गैरोँ के हुए…

हमारी नियत का पता तुम क्या लगाओगे गालिब….
हम तो नर्सरी में थे तब भी मैडम अपना पल्लू सही रखती थी..

दुआएँ इकट्ठी करने में लगा हूँ ……
लोगों से सुना है……
दौलत और शोहरत साथ नही जाते….।।

मैं उस बेवफा का सबसे पसंदिदा खिलौना
हूँ,
वो रोज जोड़ती है मुझे, फिर से तोड़ने के
लिये,

भगवान का दिया हुआ सब कुछ है…..
दौलत है , शोहरत है ,ईज्जत है……!!
बस लडकियों के कमेंट्स की ज़रुरत है……!!!

दिल टूटा है तो अपनी ही गलती से..!
उस ने कब कहा था की तू मुहब्बत कर..!!

दुनिया मे सब कुछ तो मिल जाता है,
.
सिर्फ वो ही नही मिलता जो हमारे दिल मे होता है…..

अब तो बाल भी तेरी आँखों मे देख के सँवारेंगे !!
मेरे घर का इकलौता आईना भी आज टूट गया !!

तेरे ख़त में इश्क की गवाही आज भी है,
हर्फ़ धुंधले हो गए पर स्याही आज भी है।।

बस इतनी सी बात पर हमारा परिचय तमाम होता है…
हम उन रास्तों पर नही चलते जो रास्ता आम होता है….!!

खुद को भी कभी महसूस कर लिया करो,
कुछ रौनकें खुद से भी हुआ करती हैं!..

पलकों की हदों को तोड़ कर मेरे दामन में गिर गया,
आज एक अश्क़ मेरे सबर की तौहीन कर गया !

तेरे प्यार मे दो पल की जिदंगी बहुत है……,
.
एक पल की हंसी और एक पल की खुशी बहुत है……!!!!!

कल भी थे ,
आज भी हैं
और हमेशा रहेंगे…….!आपके बिना, अधूरे हम…..

“सजदे में आज भी झुकते हैं सर,
बस मौला बदल गया देखो।”

अगर कहो तो आज बता दूँ मुझको तुम कैसी लगती हो। मेरी
नहीं मगर जाने क्यों, कुछ कुछ अपनी सी लगती हो।..

मैँने अपना गम आसमान को क्या सुना दिया… शहर के लोगों
ने बारीश का मजा ले लिया…

सॉवरे कैसे करू फलक के उस चॉद से तुलना
तेरी..
जिसका आकार बदल जाता है हर रात के
बाद..!!!

बहुत “खौफ” आता है मुझे उन लोगो से ..
.
जो दिल मे “जहर” और बातो मे “मिठास” रखते है….

दिन भर भटकते रहते हैं अरमान तुझ से मिलने के न दिल ठहरता है न इंतज़ार रुकता है !!
जनाजे को ले जाते वक्त ये ना सोचो के तुम उसे उसकी मंजिल तक पोहचा रहे हो,
हकीकत मे वो जनाजा तुम्हे तुम्हारी मंजिल बता रहा है….
मुझे इसलिए भी पसंद हैं मासूम लोग…
ख़ुद टूट जाते हैं पर दूसरों का दिल नहीं तोड़ते..!!

आप लोग हमारी पोस्ट पर बहुत कम लाइक-
कमेंट करते हो, अगर आप लोग नहीं सुधरे तो मैं
इस मामले को
सयुंक्त राष्ट्र में ले जाऊंगा।

किसी की आदत देखनी हो तो उसे इज्जत दो…
.
.
.
.
किसी की फितरत देखनी हो तो उसे आजादी दो…!!

ऐ खुदा मुसीबत मैं डाल दे मुझे…. किसी ने बुरे वक़्त मैं आने का वादा किया है.

न रख रिश्तों की बुनियादों में कोई झूठ का पत्थर
लहर जब तेज़ आती है,घरौंदे टूट जाते हैं

‘पसंद’ है मुझे…..’उन’ लोगों से ‘हारना’…..!!
जो मेरे ‘हारने’ की वजह से…..’पहली’ बार ‘जीते’ हों…..!!!!!

छोटी-छोटी बात पर रोने की आदत है उसे……!!
.
.
.
और,,,,,,
मुझे ”आँखों” में रखती हैं ”काजल” की तरह……!!!
जो देखता हूं मैं..आपको भी आऐगा नज़र..हुज़ूर … चश्मों से नहीं आंखों से देखिए..!!

बंद मुट्ठी से गिरती हुई रेत की मानिंद…
भुला दिया उसने मुझे…
ज़र्रा ज़र्रा करके…….

कैदी हैं सभी यहाँ…
कोई ख्वाबों का तो कोई ख़्वाहिशों का….

“दीदार’ की ‘तलब’ हो तो नज़रे जमाये
रखना “मन”…
क्यों कि…
‘नकाब’ हो या ‘नसीब’…
सरकता ज़रूर है…..

प्लम्बर कितना भी
एक्सपर्ट क्यूँ न हो…???
पर…
वो आँखों से बहता…
पानी बंद नहीं कर सकता..!
थोड़ा बचा हूँ, बाकि हिसाब हो चुका है….
.
.
.
बहुत कुछ है, जो मुझमें राख़ हो चुका है…!!

जिदंगी तेरे ख्वाब भी कमाल के है;तु गरीबों को उन महलों के सपने दिखाती है;जिसमें अमीरों को नींद नहींआती..��

भरी है अंजुमन लेकिन किसी से दिल नहीं मिलता,
हमीं में आ गया कुछ नुक्स, या कामिल नहीं मिलता।

शक ना कर मेरी मुहब्बत परपगली……. अगर मै सबूत देने पर आया तो … तु बदनाम हो जायेगी..!!!
सपने हमेशा सच नहीं होते…
.
.
.
पर जिन्दगी तो उम्मीद पर टिकी होती है…!!

हर एक चेहरे को ज़ख़्मों का आईना न कहो,,
ये ज़िन्दगी तो है रहमत इसे सज़ा न कहो..!!!

0 comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.